Gangubai Kathiawadi Biography In Hindi | गंगूबाई काठियावाड़ी की जीवनी

Gangubai Kathiawadi Biography, Wiki, Age, Family, Father, Husband, Education, Birthplace in Hindi


,njmv हमारे भारत देश में ऐसी बहुत सी कहानियां और किस्से हैं जो लोगों के सामने नहीं आ पाते हैं। क्योंकि उन्हें कोई जरिया नहीं मिल पाता है जिससे उनकी दर्दनाक कहानी दुनिया के सामने आ सके और उनके जीवन का सबक बन सके। एक ऐसी कहानी जो आज तक किसी ने नहीं सुनी वह बॉलीवुड के बड़े पर्दे पर नजर आने वाली है। एक ऐसी महिला जिसने अपने जीवन में बहुत दयनीय स्थिति देखी और एक वेश्या के रूप में मशहूर हुई। उस चरित्र का नाम है गंगूबाई काठियावाड़ी जिसके बारे में आज हम विस्तार से जानेंगे।


Gangubai Kathiawadi Biography In Hindi

परिचय बिंदु परिचय
पूरा नाम (Full Name) गंगा हरजीवन दास काठियावाड़ी
अन्य नाम (Other Name) गंगूबाई
निक नाम (Nick Name) गंगू
पेशा (Profession) माफिया क्वीन, कोठा चलाना
शैली (Genre) कोठे वाली
जन्म (Birth) 1939
मृत्यु (Death)
जन्म स्थान (Birth Place) काठियावाड़, गुजरात
राष्ट्रीयता (Nationality) भारतीय
गृहनगर (Hometown) काठियावाड़
जाति (Caste) गुजराती
खाने में पसंद (Food Habit)
पसंद (Hobbies) आभिनेत्री बनना
शैक्षिक योग्यता (Educational Qualification) 12वी
वैवाहिक स्थिति (Marital Status) वैवाहिक
पति का नाम (Husband’s name) रमणीक
बालों का रंग (Hair Color) काला
आँखों का रंग (Eye Color) काला



गंगूबाई काठियावाड़ी का प्रारम्भिक जीवन

जाने-माने लेखक और पत्रकार एस हुसैन जैदी की किताब ‘माफिया क्वीन्स ऑफ मुंबई’ के मुताबिक गुजरात की रहने वाली भोली-भाली 16 साल की लड़की जो अपने से अधिक उम्र के लड़के के प्यार में पागल हो जाती है। घरवालों के खिलाफ जा कर शादी कर लेती है। ये सारी बातें गंगूबाई के जीवन की है।

गंगूबाई जो पहले गंगा हरजीवनदास के नाम से जानी जाती थी, गंगा का परिवार धनाढ्य था। उसके पिताजी कि एक दुकान थी, उस दुकान पर उनके पिताजी ने एक नया अकाउंटेंट रखा था। वो अकाउंटेंट बॉम्बे रहा हुआ था। अकाउंटेंट का नाम रमणीक लाल था।

गंगा पढ़ाई में होशियार होने के साथ-साथ अपने मन में एक सफल अभिनेत्री का सपना पाले हुए थी। उसे बस कैसे भी करके बॉम्बे जाना था और अपना सपना पूरा करना था। जैसे ही उसे ये पता चला कि उसके पिता ने एक नया बाबू रखा है और वो बॉम्बे भी रह चुका है तो उसके मन में रमणीक लाल से दोस्ती करने का विचार आया।


गंगा ने रमणीक से दोस्ती कर ली और धीरे-धीरे यह दोस्ती प्यार में बदल गई, प्यार इतना हो गया कि दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया। जब गंगा ने अपने पिता को यह बात बताई कि वो और रमणीक दोनों आपस में बहुत प्यार करते है और शादी करना चाहते है तो उनके पिता जी ने साफ शब्दों में मना कर दिया। लेकिन प्यार के आगे किसी की भी नहीं चली तो पिता के शब्द भी कैसे चल सकते थे। दोनों ने भाग कर शादी करने का फैसला कर लिया।

काठियावाड़ जैसे छोटे से गाँव की रहने वाली लड़की में पता नहीं इतनी हिम्मत कहाँ से आई कि वो भाग कर शादी कर लेगी। लेकिन जो भी था, उसके मन में उसने रमणीक के साथ भाग कर शादी कर ली और सीधा बॉम्बे को निकल गए।

बॉम्बे यह ही वो जगह जहाँ गंगा अपना सपना पूरा करने के लिए कब से आना चाहती थी और वो शादी करके बॉम्बे में थी, उसे यकीन नहीं हो रहा था। गंगा को अपने पति का चेहरा धीरे-धीरे साफ दिखाई देने लगा था, क्योंकि उनके बीच छोटी-छोटी बातों पर झगड़ा होता रहता था।


गंगा से गंगूबाई तक का सफ़र

जब जेब में पैसे ना हो तो आदमी टूट जाता है और वो ही रमणीक के साथ हो रहा था। बॉम्बे तो भाग कर आ गए लेकिन आगे पूरी जिंदगी निकले कैसे? हाथ में नौकरी नहीं और रहने को छत नहीं, इस सोच में आदमी कोई भी काम करने के लिए तैयार हो जाता है। रमणीक ने केवल 500 रुपयों में अपनी पत्नी गंगा को मुंबई के एक मशहूर स्थान रेड लाइट एरिया कमाठीपुरा के एक कोठे वाली को बेच देता है।

रमणीक गंगा को कहता है कि काम ढूँढने के लिए बॉम्बे से बाहर जा रहा है इसलिए कुछ दिन वो अपनी मौसी के साथ उनके घर पर रहना, काम मिलने के बाद मैं तुझे मौसी के घर से ले जाऊंगा। रमणीक ने जो कहा गंगा वैसे-वैसे करती रही, उसे क्या पता था कि वो रमणीक के मौसी का घर नहीं बल्कि एक वैश्यालय है।

कुछ दिन रहने के बाद उसे पता चल गया कि रमणीक उस कभी भी लेने नहीं आएगा और अब इस हालात के बाद वो अपने गाँव भी नहीं जा सकती है। फिर बेमन से रहने वाली गंगा ने इस वैश्यालय को ही अपना घर मान लिया। जब से गंगा उस कोठे पर आई थी तब से ही वो चर्चे में थी, उसे वहाँ सब गंगू कह कर बुलाते थे।


गंगू का कोठा कमाठीपुरा में पड़ता था और वहाँ का एक खूंखार गुंडा जिसका नाम शौकत खान था, उसे भी जब पता चला कि कोठे में एक नई लड़की आई है और बहुत ही सुंदर है। तो अगले दिन वो कोठे में पहुँच कर गंगा को घसीटते हुए उसकी मर्जी के बिना शारीरिक संबंध बनाता है। उसे नोचता है, मारता है और पीटता भी है। उसके ऊपर बिना पैसा दिए भी चला जाता है।

पहली बार तो गंगा को कुछ समझ नहीं आया लेकिन दूसरी बार भी जब उसके साथ जबरदस्ती करी तो उसने ठान लिया कि वो शौकत खान को सजा दिलवा कर रहेगी। अपने आस-पास से पता किया तो उसे उसका नाम और उसके मालिक करीम लाला (Gangubai Kathiawadi Karim Lala) का नाम मालूम हुआ। करीम लाला के अड्डे पर पहुँच कर न्याय की गुहार की, पहली बार किसी महिला ने करीम लाला से ऐसे बेखौफ हो कर न्याय की मांग की थी।

करीम लाला ने उसे आश्वाशन दिया कि अगली बार शौकत आए तो मुझे बताना मैं उसका इलाज कर दूँगा। इस आश्वाशन पर गंगा ने करीम लाला के हाथ में एक धागा बाँध कर उसे अपना भाई बना लिया। तीसरी बार जब शौकत कोठे पर आया तो करीम लाला भी खबरी की खबर सुनकर पहुँच गया था, करीम ने शौकत को इतना मारा कि वो अधमरा हो गया।


साथ में ये ऐलान कर दिया कि गंगू मेरी मुँह बोली बहिन है इसके साथ किसी ने भी आज के बाद जबरदस्ती की तो अपनी जान गंवा बैठोगे। उस घटना के बाद से गंगू ‘गंगूबाई’ बन गई।

गंगूबाई का दबदबा इतना हो गया कि कमाठीपुरा का वो कोठा (Gangubai Kathiawadi Kamathipura) उसके नाम कर दिया गया। फिर अपने दबंग अवतार के साथ उसने कोठे में काम करने वाली वेश्याओं के लिए बहुत सारे अच्छे काम किये। गुंडे उस कोठे में आने से डरने लगे थे। वेश्याओं के बच्चों को पढ़ाने का जिम्मा लिया। बिना अपनी मर्जी के आई लड़कियों को वो अपने कोठे में नहीं रखती थी।

कोठे पर रहने वाली लड़कियों के लिए गंगूबाई ‘गंगूमाँ’ थी, उनके हक की बात करने के लिए उस समय के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू से भी मिली थी। गंगूबाई का धमाका इतना था कि कमाठीपुरा में कोई भी काम उसके पूछे बिना नहीं होता था, मतलब कि कोई भी छोटा सा काम करने के लिए उसके कोठे तक आना पड़ता था।

इसी धाक को भुनाने के लिए उसे किसी ने राजनीति में उतरने को कहा उसका भाषण सुनने के लिए पूरा आजाद मैदान भर गया था और 1960 के सभी अखबारों के फ्रंट पेज पर उनके भाषण का कवरेज था। भाषण भी दमदार दिया था, उस भाषण से पूरा बॉम्बे थर्रा गया था।


गंगूबाई काठियावाड़ी की मृत्यु (Death of Gangubai Kathiawadi)

गंगूबाई की मृत्यु साधारण तरीके से ही हुई थी और जब इनकी मौत हुई थी तब पूरे भारत के कोठों में मातम छा गया था। आज भी किसी भी कोठे में चले जाएंगे तो गंगूबाई की तस्वीर जरूर मिलेगी, क्योंकि वेश्यालय वाले इन्हे अपना भगवान मानते है।

गंगूबाई के बारे में कुछ रोचक तथ्य

  • गंगूबाई का पूरा नाम गंगा हरजीवनदास काठियावाड़ी था। बाद में मुंबई के रेड लाइट एरिया में उन्हें गंगू के नाम से जाना जाने लगा।
  • उनके जीवन में उनके साथ जो भी घटनाएँ हुई और जिस तरह से उन्हें मुंबई के डॉन की बहन बना दिया गया, इन सब बातों को लेकर उनका नाम माफ़िया क्वीन ऑफ मुंबई की किताब में शामिल किया गया है।
  • वेश्याओं के साथ-साथ उन्होंने मुंबई के बहुत से अनाथ बच्चों के लिए भी बहुत बड़े बड़े काम किये।
  • मुंबई में वेश्याओं के खिलाफ आंदोलन में उन्होंने वेश्याओं का नेतृत्व स्वयं किया।
  • मुंबई के डॉन करीम खान की मुंह बोली बहन होने की वजह से उन्हें भी मुंबई की लेडी डॉन कहा जाने लगा था

यह भी पढे : करीम लाल का जीवन परिचय 

Leave a Comment