Hardware क्या है? | Hardware कितने प्रकार के होते है?

0
Hardware क्या है? | Hardware कितने प्रकार के होते है?

नमस्कार दोस्तों आज के इस आर्टिकल मे हम आपको बताने वाले है Hardware क्या है? | Hardware कितने प्रकार के होते है? के बारे मे यदि आप हार्डवेयर के बारे में जानकारी प्राप्त करने आए हैं तो यहाँ आपको Hardware से संबंधित पूरी जानकारी मिलेगी तो आप हमारे इस लेख को विस्तार से लास्ट तक जरूर पढे ।

कंप्यूटर दो मुख्य पार्ट से मिलकर बना है जिसमें एक होता है “सॉफ्टवेयर” और एक होता है “हार्डवेयर” जहां यह दोनों कंप्यूटर के पार्ट्स एक दूसरे के पूरक होते हैं यदि आपके कंप्यूटर में हार्डवेयर है और किसी भी तरह का कोई सॉफ्टवेयर नहीं है तब आप उस कंप्यूटर को उपयोग नहीं कर सकते और वही एक हार्डवेयर की मदद से ही आप कंप्यूटर का उपयोग कर सकते हैं अगर हार्डवेअर ही नहीं रहेगा तो आपको कंप्यूटर का अस्तित्व कुछ भी नहीं होगा।

आप कंप्यूटर में जितने भी एप्लीकेशन उपयोग करते हैं जिन्हें सॉफ्टवेयर कहते हैं वह असल में हार्डवेयर के जरिए ही काम करते हैं जिस तरह आप कंप्यूटर में किसी भी डॉक्यूमेंट को बनाने के लिए MS Word सॉफ्टवेयर का उपयोग करते हैं तो वह सॉफ्टवेयर को उपयोग  करने के लिए आपको कीबोर्ड की जरूरत होती है कीबोर्ड कंप्यूटर में एक हार्डवेयर है उसी तरह जब आप कंप्यूटर में किसी फोटो वीडियो को देखते हैं तब वह सभी फोटो और वीडियो आपके हार्ड डिस्क में सेव होते हैं अगर हार्ड डिस्क जो कि एक हार्डवेयर है वह नहीं होगा तो आप कभी भी किसी भी तरह की कोई फाइल सेव नहीं कर पाएंगे ना ही उसे देख पाएंगे।

हार्डवेयर कंप्यूटर का एक ऐसा हिस्सा होता है जो की पूरी तरह से भौतिक रूप में मौजूद होता है जिसे हम हाथ से छू भी सकते हैं और अपनी आंखों से देख भी सकते हैं। अगर दूसरे शब्दों में कहा जाए तो कंप्यूटर को बनाने में जो भी बाहरी सामानों का उपयोग किया जाता है जैसे कि CPU, Cable और इसे चलाने के लिए Mouse, Keyboard, Hard Disk, Ram यह सभी कंप्यूटर में हार्डवेयर होते हैं यानी आउटपुट प्रोसेसिंग डिवाइस होते हैं जिन्हें हम हार्डवेयर कहते हैं।

हार्डवेयर कंप्यूटर का एक ऐसा हिस्सा होता है जो की पूरी तरह से भौतिक रूप में मौजूद होता है जिसे हम हाथ से छू भी सकते हैं और अपनी आंखों से देख भी सकते हैं। अगर दूसरे शब्दों में कहा जाए तो कंप्यूटर को बनाने में जो भी बाहरी सामानों का उपयोग किया जाता है जैसे कि CPU, Cable और इसे चलाने के लिए Mouse, Keyboard, Hard Disk, Ram यह सभी कंप्यूटर में हार्डवेयर होते हैं यानी आउटपुट प्रोसेसिंग डिवाइस होते हैं जिन्हें हम हार्डवेयर कहते हैं।

अब तक आप यह तो समझ ही गए होंगे कि हार्डवेयर किसे कहा जाता है और हार्डवेयर का क्या उपयोग होता है उसके बावजूद भी मैंने नीचे हार्डवेयर की एक सटीक परिभाषा को दिया हुआ है जिससे आप और भी अच्छे तरह से यह समझ पाएंगे कि आखिर हार्डवेयर क्या है।

Hardware Kya Hai In Hindi?

कंप्यूटर में उसके भौतिक भाग जैसे कि सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट यानी CPU, Moniter, Mouse, Keyboard, Hard Disk, Graphic Card, Moniter, Motherboard शामिल होते हैं जो कि आउटपुट प्रोसेसिंग यूनिट होते हैं। जिन्हें हार्डवेयर कहा जाता है।

Hardware Ka History In Hindi

जैसे कि हमें भी पता है कि हार्डवेयर की शुरुआत बोहोत पहले ही हो चुकी थी जिससे कि केवल जोड़ घटाव गुणा भाग इत्यादि गणितीय प्रक्रियाएं की जाती थी, और उस समय comptuer का आकार पूरे एक कमरे के बराबर होता था जो केवल कुछ गणितीय प्रक्रिया ही पूर्ण कर पाता था।

यदि यहां हम कहें कि वह पहला कंप्यूटर जो कि पूरे कमरे के आकार का था वह पूरा हार्डवेयर से ही मिलकर बनता है यानी कि कमरे के आकार के बराबर एक हार्डवेयर हुए करते थे। परंतु जैसे-जैसे आधुनिक समय आता गया वैसे हमारे कंप्यूटर काफी आधुनिक होते गए और कंप्यूटर के हार्डवेयर बहुत ही छोटे होते गए जिससे कि ज्यादा जगह ना घेरने के कारण काफी सुविधाजनक भी हो गए।

1960 के दशक के बाद हार्डवेयर का आधुनिकरण प्रारंभ हो गया था और आज हम 21वीं सदी में बहुत ही छोटे हार्डवेयर देखते हैं परंतु पहले के समय में हार्डवेयर काफी बड़े हुआ करते थे।

पहले के समय में पंच कार्ड तकनीकी विकसित की गई थी जिसकी मदद से बहुत सारे गणितीय प्रक्रिया पूर्ण करने के लिए कार्डों का उपयोग किया जाता था परंतु जैसे-जैसे समय विकसित होता गया और पंच कार्ड की तकनीक को हटाकर छोटे-छोटे मशीनों को बनाया गया जिनमें कुछ पुर्जे हुआ करते थे और इन पुर्जों की मदद से सभी मौजूद ऑपरेशन पूर्ण किए जाते थे।

परंतु आज ऐसा बिल्कुल भी नहीं है आज आधुनिक हार्डवेयर की मदद से हमारा काम जहां आसान हुआ है वही हमारे काम को गति भी प्राप्त हुई है साथ ही साथ एक साथ हम आधुनिक हार्डवेयर की मदद से बहुत सारे काम आसानी से कर पाते हैं।

हार्डवेयर कितने प्रकार के होते है ? (Types Of Hardware)

दोस्तों एक कंप्यूटर और एक लैपटॉप के हार्डवेयर में काफी अंतर होता है एक कंप्यूटर के सभी हार्डवेयर बाहरी रूप से रखे होते हैं जबकि एक लैपटॉप में सभी तरह के हार्डवेयर लैपटॉप से अलग नहीं होते उसी के साथ जुड़े रहते हैं।

यहा हम कंप्यूटर के हार्डवेयर की बात कर रहे हैं इसलिए कंप्यूटर के जितने भी भारी हार्डवेयर होते हैं मैं उन्हीं के बारे में आपको बताना चाहूंगा जोकि कुछ इस तरह से हैं।

Keyboard और Mouse

कीबोर्ड कंप्यूटर में एक हार्डवेयर है जो कि कंप्यूटर को चलाने में मदद करता है यदि आप कंप्यूटर के माध्यम से इसे सॉफ्टवेयर में कोई डॉक्यूमेंट बना रहे हैं तब आप उसमें जो कमेंट लिखेंगे वह कीबोर्ड की मदद से ही लिख पाएंगे जो कि एक हार्डवेयर के रूप में काम करता है। कंप्यूटर में कीबोर्ड कनेक्ट करने के लिए आपको इसमें लगी हुई यूएसबी पोर्ट से कनेक्ट करना होता है। कीबोर्ड के माध्यम से सभी कार्य उसमें लगी बटनो के माध्यम से किया जाता है

वहीं अगर माउस की बात करी जाए तो आप जो भी कंप्यूटर की स्क्रीन पर देखते हैं उन्हें मैनेज करने के लिए माउस के cursor उपयोग करते हैं यदि आपको किसी सॉफ्टवेयर को ओपन करना है तब आप कर cursor ले जाकर उस सॉफ्टवेयर पर जैसे ही रखेंगे आपके सामने ओपन का ऑप्शन आएगा जो कि mouse की मदद से किया जाता है और यही माउस एक हार्डवेयर है। एक माउस में चार बटन होती है एक राइट क्लिक होता है एक लेफ्ट क्लिक होता है एक स्क्रोल बटन होता है और एक स्क्रोल होता है यह चार मुख्य बटन ही केवल माउस में होते हैं जिनकी मदद से आप पूरे स्क्रीन को मैनेज करते हैं।

LED Monitor

किसी कंप्यूटर में एलईडी मॉनिटर का हिस्स होता है जिसमें हार्डवेयर में उपस्थित सभी तरह के सॉफ्टवेयर को डिस्प्ले के रूप में देखा जाता है अगर किसी कंप्यूटर में मॉनिटर ही नहीं होगा तब हम उस कंप्यूटर का कोई अस्तित्व नहीं समझ सकते है, यानी कि एलईडी मॉनिटर एक हार्डवेयर है जो कि सीपीयू हार्डवेयर के सभी सॉफ्टवेयर को डिस्प्ले करने का कार्य करता है जिससे हमें यह समझ आ पाता है कि आखिर हम क्या काम कर रहे हैं।

Scanner

स्केनर कंप्यूटर से जोड़ा जाता है यदि आपने किसी तरह का डॉक्यूमेंट बनाया है और यदि आप के पास कोई कागज है जो की हार्ड कॉपी है यदि आप इसे फोटो के रूप में या पीडीएफ फाइल बनाना चाहते हैं तब आपको स्केनर की मदद से यह डॉक्यूमेंट स्कैन करना होगा जो कि उसे स्केनर के सॉफ्टवेयर से किया जाएगा जहां एस्केनर भौतिक रूप में एक हार्डवेयर है वहीं स्केनर का एक सॉफ्टवेयर भी आपको स्क्रीन में दिखेगा यदि आपके कंप्यूटर में हार्डवेयर के रूप में स्केनर नहीं लगा हुआ है तब आप किसी भी डॉक्यूमेंट को स्कैन करके अपने कंप्यूटर में स्टोर नहीं कर पाएंगे।

Printer

यदि आपके द्वारा कंप्यूटर में किसी तरह का डॉक्यूमेंट बनाया गया है और आप उसे हार्ड कॉपी के रूप में एक कागज पर प्रिंट करना चाहते हैं तब आपको प्रिंटर की जरूरत होती है जो कि एक हार्डवेयर होता है और इसी प्रिंटर को उपयोग करने के लिए आपको ड्राइवर की मदद से अपने कंप्यूटर में किसी भी कागज को प्रिंट करने में मदद करता है।

CPU

यह कंप्यूटर का सबसे उपयोगी भाग होता है इसका पूरा नाम सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट होता है, यह सभी हार्डवेयर से बना हुआ एक हार्डवेयर होता है इसके अंदर छोटे-छोटे कई हार्डवेयर लगे होते हैं और इसे भारी रूप से देखा जाए तो यह एक ही दिखाई देता है परंतु इसके अंदर आपका हार्ड डिस्क रैम एसएमपीएस इसके अलावा मदरबोर्ड भी होता है, सीपीयू का सबसे उपयोगी भाग मदरबोर्ड ही होता है। मदरबोर्ड एक प्लेट होती है जिसमें बहुत सारे सर्किट होते हैं जिसकी मदद से सभी सिग्नल को एक दूसरे के पास निर्देशित किया जाता है यदि आपके सीपीयू में मदरबोर्ड ही नहीं होता है तो आपका कंप्यूटर कभी चालू ही नहीं होगा सभी हार्डवेयर एक दूसरे से लिंक होते हैं जिसकी मदद से एक पूरा कंप्यूटर चलाया जाता है वहीं इसी हार्डवेयर में यानी सीपीयू के अंदर आपकी हार्ड डिस्क में सभी सॉफ्टवेयर को स्टार्ट किया जाता है जिसकी मदद से आप मॉनिटर को उपयोग कर पाते हैं और जितने भी सॉफ्टवेयर है मॉनिटर की मदद से डिस्प्ले कर पाते हैं।

Graphics Cards

ग्राफिक कार्ड मदरबोर्ड के अंदर ही लगाया जाता है इसके उपयोग से आपकी डिस्प्ले में जो भी चीजें दिखाई देती है वह और भी अच्छे पिक्सल्स में दिखाई देती हैं जिसके साथ यह आपके सीपीयू में जो भी सॉफ्टवेयर उपस्थित हैं उन्हें ज्यादा गति प्रदान करता है जिससे कि वह काफी अच्छी तरह से जल्दी काम कर पाए यह सभी डाटा को कन्वर्ट करता है और वहां से सिग्नल को बनाता है जिससे हमारा मॉनिटर या एलईडी समझ पाता है जिससे हमें कंप्यूटर के अंदर एक सूट फॉर मेंस देखने को मिलती है।

हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर में अंतर

वैसे तो हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर में बहुत ज्यादा अंतर है क्योंकि सॉफ्टवेयर जहां हार्डवेयर पर निर्भर होते हैं वही सॉफ्टवेयर की मदद से हम हार्डवेयर को निर्देश दे पाते हैं तो आइए अब हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बीच में क्या अंतर है जान लेते हैं जिससे कि आप अच्छे से समझ पाए।

  1. हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर एक दूसरे पर ही निर्भर होते हैं यदि एक सॉफ्टवेयर के द्वारा हार्डवेयर को सही निर्देश दिया जाता है तो हार्डवेयर सही से काम करेगा और हार्डवेयर के द्वारा अगर सॉफ्टवेयर को सही निर्देश दिया जाता है तब सॉफ्टवेयर सही से काम करेगा।
  2. किसी भी कंप्यूटर में बिना हार्डवेयर के किसी सॉफ्टवेयर को उपयोग कर पाना असंभव है।
  3. सॉफ्टवेयर को आप अपडेट कर सकते हैं और कुछ सॉफ्टवेयर को अपडेट करने के लिए आपको पैसा भी देना पड़ता है वहीं हार्डवेयर केवल आपको एक बार खरीदना पड़ता है जिसे आप चाहे तो अपग्रेड कर सकते हैं और ना चाहे तो नहीं।
  4. एक हार्डवेयर के हार्ड डिस्क में आप अलग-अलग तरह के सॉफ्टवेयर को स्टोर करके अलग-अलग सॉफ्टवेयर की मदद से अलग-अलग कार्य कर सकते हैं परंतु एक हार्डवेयर से आप केवल एक ही कार्य कर सकते हैं जैसे आपका माउस केवल माउस की तरह कार्य करेगा और आपका कीबोर्ड टाइपिंग के लिए ही कार्य करेगा।
  5. किसी भी सॉफ्टवेयर के द्वारा मॉनिटर पर डिस्प्ले किया जाता है जो कि हार्डवेयर में एक सॉफ्टवेयर की मदद से किया जाता है।
  6. कंप्यूटर में सबसे पहले हार्डवेयर आता है उसके बाद हार्डवेयर के अंदर सभी तरह के सॉफ्टवेयर को इंस्टॉल किया जाता है।
  7. हार्डवेयर को आप छू सकते हैं देख सकते हैं परंतु सॉफ्टवेयर को आप छू नहीं सकते केवल उसका डिस्प्ले के रूप में उपयोग कर सकते हैं।
  8. हार्डवेयर एक भौतिक रूप में होता है जबकि सॉफ्टवेयर एक फाइल के रूप में होता है जोकि हार्डवेयर में स्टोर किया जाता है।
  9. एक यूजर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बीच की कड़ी होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here