Muharram Shayari In Hindi | Muharram Shayari In Urdu

Muharram 2022: मुहर्रम इस्लामिक कैलेंडर का पहला महिना है। यह वह महिना है जब पैगंबर मुहम्मद के नवासे इमाम हुसैन अपने परिवार और 72 साथियों के साथ शहीद हो गए थे, उनकी शहादत की याद में मुहर्रम मनाया जाता हैं।

मुहर्रम कोई त्योहार नहीं बल्कि मातम का दिन है। मुहर्रम एक ऐसा महिना है, जिसे मुस्लिम समाज के लोग इमाम हुसैन की शहादत के गम में मनाते है। मुहर्रम के दिन इमाम हुसैन और उसके भाई हसन का ताजिया निकाल कर शोक मनाया जाता है, ये दिन मुहर्रम महीने का 10वाँ दिन होता है।


Muharram Shayari In Hindi मोहर्रम पर शायरी शेयर कर रहे है,

हम इस पोस्ट मे आपके लिए Muharram shayari in Hindi 2022, muharram Shayari Sunni Hindi, Muharram par shayari, Muharram Ki shayari, muharram shayari hindi, ashura moharram shayari, sunni muslim shayari, Husain shayari, muharram shayari status quotes SMS, message, kavita, Muharram sad shayari, Muharam sher o shayari in hindikarbala shayari, tajiya shyari hindi me, Ya husain shayari, Shan e Hussain Shayari, Muharram Shayari in Hindi for Facebook and Whatsapp अदि जिन्हे आप अपने Friends & Relatives से WhatsApp, Facebook & Instagram पर शेयर कर सकते हैं।

Muharram Shayari in Hindi 

Muharram quotes with images
Muharram quotes with images

Muharram Shayari In Hindi 2022

सलाम या हुसैन…
अपनी तकदीर जगाते हैं तेरे मातम से,
खून की राह बिछाते हैं तेरे मातम से,
अपने इज़हार-ए-अकीदत का सलीका ये है,
हम नया साल मनाते हैं तेरे मातम से.

 

जिस तरह Diwali बिना Ali अधूरी है,
वैसे ही Muharram भी कहाँ बिन Ram मुकम्मल है.


जालिम का नाम मिट गया तारीख़ से मगर,
वो याद रह गए जिन्हें पानी नहीं मिला…

मोहर्रम का शायरी

ख़ुदा का जिस पर रहमत हो वो हुसैन होता है,
जो इन्साफ और सत्य के लड़ जाए वो हुसैन होता है.
मुहर्रम शायरी

 

सजदे से करबला को बंदगी मिल गयी…
सब्र से उम्मत को ज़िन्दगी मिल गयी…
एक चमन फातिमा का उजड़ा,
मगर सारे इस्लाम को ज़िन्दगी मिल गयी…

 

खुशियों का सफ़र तो गम से शुरू होता है,
हमारा तो नया साल मुहर्रम से शुरू होता है.

Muharram Wishes HD Images

Happy Muharram Shayari 2021
Happy Muharram Shayari 2021

Happy Muharram Shayari 2022

मिटकर भी मिट सके ना
ऐसा वो हामी-ओ-यावर
नेज़े की नोंक पर था
फिर भी बुलंद था सर.


Muharram Ke Liye Shayari

एक दिन बड़े गुरुर से कहने लगी जमीन
है मेरे नसीब में परचम हुसैन का
फिर चाँद ने कहा मेरे सीने के दाग देख
होता है आसमान पर भी मातम हुसैन का

 

फिर आज हक़ के लिए जान फिदा करे कोई
वफ़ा भी झूम उठे यूँ वफ़ा करे कोई
नमाज़ 1400 सालों से इंतज़ार में है
हुसैन की तरह मुझे अदा करे कोई

कर्बला शायरी रेख़्ता

कर्बला को कर्बला के शहंशाह पर नाज है,
उस नवासे पर मोहम्मद को नाज़ है,
यूँ तो लाखों सर झुके सजदे में लेकिन
हुसैन ने वो सजदा किया जिस पर खुदा को नाज़ है.

 

यूँ ही नहीं जहाँ में चर्चा हुसैन का
कुछ देख के हुआ था ज़माना हुसैन का
सर दे के जो जहाँ की हुकूमत खरीद ले
महंगा पड़ा यज़ीद को सौदा हुसैन का

10th Muharram quotes

क्या जलवा कर्बला में दिखाया हुसैन ने,
सजदे में जा कर सर कटाया हुसैन ने,
नेजे पे सिर था और जुबां पर अय्यातें,
कुरान इस तरह सुनाया हुसैन ने।


दिन रोता है रात रोती है,
दिन रोता है रात रोती है..
हर मोमिन की जात रोती है,
जब भी आता है मुहर्रम का महिना,
खुदा की कसम ग़म-ए-हुसैन,
सारी कायनात रोती है…

कर्बला की शायरी

जालिम का नाम मिट गया तारीख़ से मगर,
वो याद रह गए जिन्हें पानी नहीं मिला…
कुमार विश्वास

 

पानी का तलब हो तो एक काम किया कर
कर्बला के नाम पर एक जाम पिया कर
दी मुझको हुसैन इब्न अली ने ये नसीहत
जालिम हो मुकाबिल तो मेरा नाम लिया कर

Muharram Wishes in hindi 2021
Muharram Wishes in hindi 2021

Muharram SMS Hindi Shayari

सुन लो यज़ीदीयों, तड़पा नही हुसैन मेरा, पानी के लिए
दरिया ज़रूर महरूम था, लब-ए हुसैन को छूने के लिए।

 

कौन भूलेगा वो सजदा हुसैन का,
खंजरों तले भी सर झुका ना था हुसैन का…
मिट गयी नसल ए याजिद करबला की ख़ाक में,
क़यामत तक रहेगा ज़माना हुसैन का…

Muharram Best Shayari

कर्बला की जमीं पर खून बहा
कत्लेआम का मंज़र सजा
दर्द और दुखों से भरा था सारा जहाँ
लेकिन फौलादी हौसले को शहीद का नाम मिला


हुसैन का सम्मान शायरी

जन्नत की आरजू में कहा जा रहे है लोग,
जन्नत तो कर्बला में खरीदी हुसैन ने,
दुनिया-ओ-आखरत में रहना हो चैन सूकून से
तो जीना अली से सीखे और मरना हुसैन से।
Happy Muharram

 

किस कदर रोया मैं सुन के दास्ताने कर्बला,
मैं तो हिन्दू ही रहा आँखे हुसैनी हो गयी.
Muharram Shayari

Muharram Sad Shayari

हुसैन तेरी अता का चश्मा दिलों के दामन भिगो रहा है,
ये आसमान में उदास बादल तेरी मोहब्बत में रो रहा है,
सबा भी जो गुजरे कर्बला से तो उसे कहता है अर्थ वाला,
तू धीरे गूजर यहाँ मेरा हुसैन सो रहा है।

Muharram Shayari in Urdu

شہادت سب کے حصے میں کہاں آتی ہے دنیا میں
میں تجھ پہ رشک کرتا ہوں، ترا ماتم نہیں کرتا!

shahadat shayari in urdu

بد نام نہ کیجیئے سر عام نہ کیجیئے
اپنی عزت آپ خود نیلام نہ کیجیئے..

 

وہ جو عادت کا غلام بن جاتا ہے
جو ہر روز ایک ہی راستے پر چلتا ہے..


گر عشقِ جہاں کے زعم میں ہی رہتے
پھر یوں بےِ نیل مرام ہی رہتے..

हुसैन जिंदाबाद शायरी Urdu

شعیہ کیا ہیں سنی کیا ہیں… میں یہ سب تو نہیں جانتا
پر جس میں غم حسین نہیں میں اسے دل تو نہیں مانتا

 

شہسوارِ کربلا کی شہسواری کو سلام
نیزے پر قران پڑھنے والے قاری کو سلام

कर्बला शायरी

कर्बला की शहादत इस्लाम बना गई,
खून तो बहा था लेकिन हौसलों की उड़ान दिखा गई…

 

अपनी तक़दीर जगाते है तेरे मातम से
खून की राह बिछाते हैं तेरे मातम से
अपने इज़हार-ए-अक़ीदत का सिलसिला ये है
हम नया साल मनाते है तेरे मातम से


मुहर्रम शायरी

सजदे से कर्बला को बंदगी मिल गयी,
सब्र से उम्मत को ज़िन्दगी मिल गयी,
एक चमन फातिमा का उजड़ा मगर
सारे इस्लाम को जिंदगी मिला गयी.

 

ख़ुदा का जिस पर रहमत हो वो हुसैन होता है,
जो इन्साफ और सत्य के लड़ जाए वो हुसैन होता है.
मुहर्रम शायरी

Muharram Wishes In Hindi 2022

ऐसी नमाज़ कौन पढ़ेगा जहाँ
सज़दा किया तो सर ना उठाया हुसैन ने
सब कुछ खुदा की राह में कुर्बान कर दिया
असगर सा फूल भी ना बचाया हुसैन ने

 

मुहर्रम को याद करो वो कुर्बानी,
जो सिखा गया सही अर्थ इस्लामी,
ना डिगा वो हौसलों से अपने,
काटकर सर सिखाई असल जिंदगानी

Muharram 2022 Shayari in Hindi

Muharram shayari with images
Muharram shayari with images

Karbala Shayari in Hindi

पानी का तलब हो तो एक काम किया कर,
कर्बला के नाम पर एक जाम पिया कर,
दी मुझको हुसैन इब्न अली ने ये नसीहत,
जालिम हो मुकाबिल तो मेरा नाम लिया कर।

Muharram 2022 Status in Hindi

हुसैन तेरी अता का चश्मा दिलों के दामन भिगो रहा है
ये आसमान में उदास बादल तेरी मोहब्बत में रो रहा है
सबा भी जो गुजरे कर्बला से तो उसे कहता है अर्थ वाला
तू धीरे गूजर यहाँ मेरा हुसैन सो रहा है


हुसैन आप ही से बाग़ ए उल्फ़त में बहार है,
हुसैन आप ही से हर मोमिन के दिल को करार है,
हुसैन आप ही से यज़ीदियत की हार है
हुसैन आप की ही ज़माने पर सरकार है.

हुसैन शायरी इन हिंदी

मुहर्रम को याद करो वो कुर्बानी,
जो सिखा गया सही अर्थ इस्लामी,
ना डिगा वो हौसलों से अपने,
काटकर सर सिखाई असल जिंदगानी.

 

कर्बला की कहानी में कत्लेआम था
लेकिन हौसलों के आगे हर कोई गुलाम था,
खुदा के बन्दे ने दी कुर्बानी
जो आनेवाली नस्लों के लिए एक पैगाम था.
मुहर्रम शायरी

Muharram Shayari In Hindi 

मौत के दरिया मैं हर एक खुश-ओ-तर रह जाएगा
हन फकत नाम-ए-हुसैन इब्न-ए-अली रेह जयेगा

 

फिर आज हक के लिए जान फिदा करे कोई
वफ़ा भी झूम उठे यूं वफ़ा करे कोई
नमाज़ 1400 सालो से इंतिज़ार मैं है
हुसैन की तरह मुझे अदा करे कोई

Muharram Quotes in Hindi

जबीन-ए-इब्न-ए-अली की नियाज जारी है
खुदा के दीन की उमर-ए-दराज जारी है
सजदे मैं रख के सर को ना उत्थान हुसैन नाय
मेरे हुसैन की अब तक नमाज जरी है

 

कुछ बरहमी है जरा इस नूर-ए-ऐन मैं
मिला है इज़्तिराब युंही दिल के चैन मैं
सेलाब देखता हूं तो अता है ये ख्याल
पानी भटक रहा है तलाश-ए-हुसैन मैं

Muharram Wishes in Hindi 

वो मंज़र ए शाम ए यज़ीदी
वो डीड हुसैनी कर्बला
हाई मुख्यालय प्य नकारा ए खुदा
वतु इज्जू मंताशा वतु ज़िलु मंताशा !!

 

कुछ बरहमी है जरा इस नूर-ए-ऐन मैं
मिला है इज़्तिराब युंही दिल के चैन मैं
सेलाब देखता हूं तो अता है ये ख्याल
पानी भटक रहा है तलाश-ए-हुसैन मैं

Hussain Status Hindi

लफ़्जों में क्या लिखूं मैं शहादत हुसैन की,
कलम भी रो देता है कर्बला का मंजर सोचकर।
क्या जलवा कर्बला में दिखाया हुसैन ने,
सजदे में जा कर सर कटाया हुसैन ने,
नेजे पे सिर था और जुबां पर अय्यातें,
कुरान इस तरह सुनाया हुसैन ने।
Muharram Shayari in Hindi

हुसैन का सम्मान शायरी

जन्नत की आरजू में कहा जा रहे है लोग,
जन्नत तो कर्बला में खरीदी हुसैन ने,
दुनिया-ओ-आखरत में रहना हो चैन सूकून से
तो जीना अली से सीखे और मरना हुसैन से।
Happy Muharram

फलक पर शोक का बादल अजीब आया है,
कि जैसे माह मुहर्रम नजदीक आया है.
Muharram Shayari

हुसैन शायरी इन हिंदी

ऐसी नमाज़ कौन पढ़ेगा जहाँ
सज़दा किया तो सर ना उठाया हुसैन ने
सब कुछ खुदा की राह में कुर्बान कर दिया
असगर सा फूल भी ना बचाया हुसैन ने

 

सिर गैर के आगे ना झुकाने वाला
और नेजे पे भी कुरान सुनाने वाला
इस्लाम से क्या पूछते हो कौन हुसैन
हुसैन है इस्लाम को इस्लाम बनाने वाला

 

न हिला पाया वो रब की मैहर को
भले जीत गया वो कायर जंग
पर जो मौला के दर पर बैखोफ शहीद हुआ
वही था असली और सच्चा पैगम्बर

मुहर्रम की बधाई

गुरूर टूट गया कोई मर्तबा ना मिला
सितम के बाद भी कुछ हासिल जफा ना मिला
सिर-ऐ-हुसैन मिला है यजीद को लेकिन
शिकस्त यह है की फिर भी झुका हुआ ना मिला

 

जन्नत की आरजू में कहा जा रहे है लोग
जन्नत तो कर्बला में खरीदी हुसैन ने
दुनिया-ओ-आखरत में रहना हो चैन सूकून से
तो जीना अली से सीखे और मरना हुसैन से

 

हुसैन तेरी अता का चश्मा दिलों के दामन भिगो रहा है
ये आसमान में उदास बादल तेरी मोहब्बत में रो रहा है
सबा भी जो गुजरे कर्बला से तो उसे कहता है अर्थ वाला
तू धीरे गूजर यहाँ मेरा हुसैन सो रहा है

Hussain Status Hindi

फिर आज हक़ के लिए जान फिदा करे कोई
वफ़ा भी झूम उठे यूँ वफ़ा करे कोई
नमाज़ 1400 सालों से इंतज़ार में है
हुसैन की तरह मुझे अदा करे कोई

 

एक दिन बड़े गुरुर से कहने लगी जमीन
है मेरे नसीब में परचम हुसैन का
फिर चाँद ने कहा मेरे सीने के दाग देख
होता है आसमान पर भी मातम हुसैन का

Muharram 2022 Quotes Hindi

यूँ ही नहीं जहाँ में चर्चा हुसैन का
कुछ देख के हुआ था ज़माना हुसैन का
सर दे के जो जहाँ की हुकूमत खरीद ले
महंगा पड़ा यज़ीद को सौदा हुसैन का

 

1 thought on “Muharram Shayari In Hindi | Muharram Shayari In Urdu”

Leave a Comment