Ratan Tata Biography in Hindi | रतन टाटा का जीवन परिचय

Ratan Tata Biography in Hindi, Wiki, Age, Career, Education, Family, Wife, Net Worth, Caste, Nationality, Son, Daughter, Father and Mother

नमस्कार दोस्तों आज के इस आर्टिकल मे हम आपको देश के एक ऐसे चहेते उघोगपतियों का एक ऐसा चेहरा, रत्न टाटा जिसे हर कोई जानता है। हम आज रतन टाटा का जीवन परिचय के बारे मे आपको बताने वाले है । रतन टाटा जो की टाटा समूह के पूर्व अध्यक्ष है. भारतीय उद्योगपति ,दूरदर्शी होने के साथ साथ एक परोपकारी व्यक्ति भी है । रतन टाटा आज किसी पहचान के मोहताज नहीं है. रतन टाटा को बच्चे से बूढ़े तक सब जानते है. रतन टाटा, सभी प्रमुख कम्पनियों जैसे टाटा स्टील, टाटा मोटर्स, टाटा पावर, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, टाटा टी, टाटा केमिकल्स, इंडियन होटल्स और टाटा टेलीसर्विसेज के अध्यक्ष भी रहे । ये इतने दूरदर्शी से है की इन्होने घाटे में चल रही टाटा समूह की कम्पनियो को कई सालो की मेहनत और अपनी दूरदर्शिता की मदद से और अपने दम से मुनाफे में पहुचाया। वो कैसे इतने सक्सेफुल उघोगपति बने। कैसे उन्होंने अपने जीवन में इतनी सफलता हासिल की। ऐसा क्या है कि, आज लोग उनके बारे में जानने के लिए इतने उत्सुक हैं। ऊंचाईयों को छूने वाला उघोगति रतन टाटा आखिर कैसे हुआ लोगों के बीच इतना प्रसिद्ध।

Ratan Tata Biography in Hindi | रतन टाटा का जीवन परिचय

नाम Name रतन टाटा
असली नाम Real Name रतन नवल टाटा
जन्म तिथि  Date of Birth    28 दिसंबर 1937
उम्र Age 85 वर्ष
जन्म स्थान Birth Place सूरत , गुजरात
शिक्षा Education बी.एसडिग्री संरनात्मक इंजीनियरिंग एवं वास्तुकला में उन्नत प्रबंधन कार्यक्रम
राशि Zodiac Sign तुला
गृह नगर Home Town मुंबई
नागरिकता Nationality भारतीय
धर्म Religion पारसी
पेशा Profession टाटा समूह के रिटायर्ड अध्यक्ष
पुरस्कार (Awards)  पदम भूषण, पदम विभूषण
वैवाहिक स्थिति Marital Status अवैवाहिक

रतन टाटा का जन्म व प्रारंभिक जीवन (Ratan Tata Birth and Early Life)

रतन टाटा देश के प्रसिद्ध उघोगपति का जन्म 28 दिसंबर 1937 को सूरत शहर में हुआ। रतन टाटा नवल टाटा के बेटे हैं। जब रतन टाटा केवल 10 साल के थे तो इनके माता पिता अलग हो गए थे. जिसके कारण दोनों भाईयों को भी अलग होना पड़ा। उसके बाद दोनों भाइयों का लालन पालन उनकी दादी नवजबाई टाटा ने किया । इनकी दादी बहुत दयालु थी, लेकिन अनुशासन के मामले में भी काफी सख्त थी इनका का एक सौतेला भाई भी है जिसका नाम नोएल टाटा है।बचपन में ये पियानो सीखते थे और क्रिकेट खेला करते थे ।

रतन टाटा

रतन टाटा की शिक्षा (Ratan Tata Education)

रतन टाटा की शुरूआती शिक्षा कैंपियन स्कूल, मुंबई से हुई। रतन टाटा ने कैथेड्रल में ही अपनी माध्यमिक शिक्षा प्राप्त की और जॉन केनौन स्कूल में दाखिल हुए. वही वास्तुकला में उन्होंने अपनी B.Sc की शिक्षा पूरी की। साथ ही कॉर्नेल यूनिवर्सिटी से 1962 में संचारात्मक इंजीनियरिंग और 1975 में हार्वर्ड बिज़नस स्कूल से एडवांस मैनेजमेंट प्रोग्राम का अभ्यास किया। टाटा अल्फा सिग्मा फाई बन्धुत्वता के सदस्य भी है। रतन टाटा का ऐसा मानना है की परोपकारियों को अलग नजरिये से देखा जाना चाहिए। पहले परोपकारी अपनी संस्थाओ और अस्पतालों का विकास करते थे जबकि अब उन्हें देश का विकास करने की जरुरत है।

रतन टाटा का करियर (Ratan Tata Career)

भारत लौटने से पहले रतन ने लॉस एंजिल्स, कैलिफोर्निया, में जोन्स और एमोंस में कुछ समय कार्य किया। उन्होंने टाटा ग्रुप के साथ अपने करियर की शुरुआत सन 1961 में की। शुरुआती दिनों में उन्होंने टाटा स्टील के शॉप फ्लोर पर कार्य किया। इसके बाद वे टाटा ग्रुप के और कंपनियों के साथ जुड़े। सन 1971 में उन्हें राष्ट्रीय रेडियो और इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी (नेल्को) में प्रभारी निदेशक नियुक्त किया गया। 1981 में उन्हें टाटा इंडस्ट्रीज का अध्यक्ष बनाया गया। सन 1991 में जेआरडी टाटा ने ग्रुप के अध्यक्ष पद को छोड़ दिया और रतन टाटा को अपना उत्तराधिकारी बनाया।

रतन के नेतृत्व में टाटा समूह ने नई ऊंचाइयों को छुआ। उनके नेतृत्व में टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने पब्लिक इशू जारी किया और टाटा मोटर्स न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध किया गया। सन 1998 में टाटा मोटर्स ने पहली पूर्णतः भारतीय यात्री कार – टाटा इंडिका – को पेश किया। तत्पश्चात टाटा टी ने टेटली, टाटा मोटर्स ने ‘जैगुआर लैंड रोवर’ और टाटा स्टील ने ‘कोरस’ का अधिग्रहण किया जिससे टाटा समूह की साख भारतीय उद्योग जगत में बहुत बढ़ी। टाटा नैनो – दुनिया की सबसे सस्ती यात्री कार – भी रतन टाटा के ही सोच का ही परिणाम है।

28 दिसंबर 2012 को वे टाटा समूह के सभी कार्यकारी जिम्मेदारी से सेवानिवृत्त हुए। उनका स्थान 44 वर्षीय साइरस मिस्त्री ने लिया। हालाँकि टाटा अब सेवानिवृत्त हो गए हैं फिर भी वे काम-काज में लगे हुए हैं। अभी हाल में ही उन्होंने भारत के इ-कॉमर्स कंपनी स्नैपडील में अपना व्यक्तिगत निवेश किया है। इसके साथ-साथ उन्होंने एक और इ-कॉमर्स कंपनी अर्बन लैडर और चाइनीज़ मोबाइल कंपनी जिओमी में भी निवेश किया है।

वर्तमान में रतन, टाटा समूह के सेवानिवृत अध्यक्ष हैं। इसके साथ-साथ वह टाटा संस के 2 ट्रस्ट्स के अध्यक्ष भी बने हुए हैं।

रतन टाटा ने भारत के साथ-साथ दूसरे देशों के कई संगठनो में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। वह प्रधानमंत्री की व्यापार और उद्योग परिषद और राष्ट्रीय विनिर्माण प्रतिस्पर्धात्मकता परिषद के एक सदस्य हैं। रतन कई कम्पनियो के बोर्ड पर निदेशक भी हैं।

रतन टाटा की कुल संपत्ति (Ratan Tata Net Worth)

अगर हम टाटा ग्रुप की सभी कंपनियों के मार्किट वैल्यू की बात करें तो एक अनुमान के हिसाब से जितनी उनकी कंपनियां हैं उनकी मार्किट वैल्यू 17 लाख करोड़ रुपये होगी। ब्‍लूमबर्ग बिलेनियर इंडेक्‍स के मुताबिक उनकी कुल संपत्ति 117 बिलियन डॉलर यानी करीब 8.25 लाख करोड़ है. रतन टाटा इसमें से 65 प्रतिशत पैसा लोगों की मदद करने के लिए दान देते है। यही कारण है की वो दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति नहीं है।

रतन टाटा को मिले सम्मान और पुरस्कार

भारत सरकार ने रतन टाटा को पद्म भूषण (2000) और पद्म विभूषण (2008) द्वारा सम्मानित किया। ये सम्मान देश के तीसरे और दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान हैं। उनको मिले अन्य सम्मान और पुरस्कार नीचे दिए गए हैं-

साल  (Year) पुरस्कार (Awards) संगठन (Organisation)
2015 मानद एचईसी पेरिस
2015 ऑटोमोटिव इंजीनियरिंग की मानद डॉक्टर क्लेमसन विश्वविद्यालय
2014 कानून की मानद डॉक्टर न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय, कनाडा
2014 ब्रिटिश साम्राज्य के आदेश के मानद नाइट ग्रैंड क्रॉस यूनाइटेड किंगडम
2014 सयाजी रत्न पुरस्कार बड़ौदा मैनेजमेंट एसोसिएशन
2014 व्यापार के मानद डॉक्टर सिंगापुर मैनेजमेंट यूनिवर्सिटी
2013 डॉक्टरेट की मानद उपाधि एम्स्टर्डम विश्वविद्यालय
2013 व्यापार व्यवहार के मानद डॉक्टर कार्नेगी मेलॉन विश्वविद्यालय
2013 अर्नस्ट और वर्ष का सर्वश्रेष्ठ युवा उद्यमी – लाइफटाइम अचीवमेंट अर्न्स्ट एंड यंग
2013 विदेश एसोसिएट नेशनल एकेडमी ऑफ इंजीनियरिंग
2012 व्यापार मानद डॉक्टर न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय
2012 मानद फैलो इंजीनियरिंग की रॉयल अकादमी
2010 इस साल के बिजनेस लीडर एशियाई पुरस्कार
2010 कानून की मानद डॉक्टर पेपरडाइन विश्वविद्यालय
2010 लीडरशिप अवार्ड में लीजेंड येल विश्वविद्यालय
2010 शांति पुरस्कार के लिए ओस्लो व्यापार शांति प्रतिष्ठान के लिए व्यापार
2010 हैड्रियन पुरस्कार विश्व स्मारक कोष
2010 लॉ की मानद डॉक्टर कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय
2009 इतालवी गणराज्य की मेरिट के आदेश के ‘ग्रैंड अधिकारी’ का पुरस्कार इटली की सरकार
2009 2008 के लिए इंजीनियरिंग में लाइफ टाइम योगदान पुरस्कार इंजीनियरिंग इंडियन नेशनल एकेडमी
2009 ब्रिटिश साम्राज्य के आदेश के मानद नाइट कमांडर यूनाइटेड किंगडम
2008 प्रेरित होकर लीडरशिप अवार्ड प्रदर्शन रंगमंच
2008 मानद फैलोशिप इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी संस्थान
2008 मानद नागरिक पुरस्कार सिंगापुर सरकार
2008 साइंस की मानद डॉक्टर इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी खड़गपुर
2008 साइंस की मानद डॉक्टर इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मुंबई
2008 लॉ की मानद डॉक्टर कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय
2008 लीडरशिप अवार्ड लीडरशिप अवार्ड
2007 परोपकार की कार्नेगी पदक अंतर्राष्ट्रीय शांति के लिए कार्नेगी एंडोमेंट
2007 मानद फैलोशिप अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान के लंदन स्कूल
2006 जिम्मेदार पूंजीवाद पुरस्कार
2006 साइंस की मानद डॉक्टर इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मद्रास
2005 साइंस की मानद डॉक्टर वारविक विश्वविद्यालय
2005 अंतर्राष्ट्रीय गणमान्य अचीवमेंट अवार्ड
2004 प्रौद्योगिकी के मानद डॉक्टर एशियन इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी
2004 उरुग्वे के ओरिएंटल गणराज्य की पदक उरुग्वे की सरकार
2001 बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन के मानद डॉक्टर ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी

रतन टाटा के बारे में रोचक तथ्य (Interesting Fact About Ratan Tata) –

  • 100 कंपनीयो के साथ टाटा ग्रुप विश्व में पांचवी सबसे बड़ी कंपनी है. टाटा चाय से लेकर 5 स्टार होटल तक, सूई से लेकर स्टील तक, नैनों कार से लेकर हवाई जहाज तकसब बेचते हैं
  • रतन टाटा को पालतू जानवर रखना काफी पसंद हैं। इसलिए उन्होंने अपना मुंबई वाला बंगाला जिसकी कीमत 400 करोड़ है वो पालतू कुत्तों की देखभाल के लिए दिया हुआ है। साथ ही उन्हें प्लेन उड़ाने का भी काफी शौक है, जिसका उनके पास लाइसेंस भी है।
  • रतन टाटा का काम करने का तरीक एकदम अलग है। इसलिए उनके साथ काम करने वाले कर्मचारी भी उनके साथ काम करना काफी पसंद करते हैं। इसलिए कहा जाता है टाटा में काम करना सरकारी नौकरी से कम नहीं है।
  • रतन टाटा ने टाटा ग्रुप को अपने 21 साल दिए और इन 21 सालो में कंपनी को शिखर पर पहुंचा दिया. कंपनी की वैल्यू 50 गुना बढ़ा दी. .
  • .साल 2008 में 26/11 के दिन आतंकवादियो द्वारा मुंबई के ताज होटल पर किये गए हमले में ताज होटल में जितने भी लोग घायल हुए थे उन सबका इलाज टाटा ने ही कराया था.
  • 26/11 आतंकवादी हमले में होटल के आस-पास छोटी मोटी दुकान ठेला लगाने वाले जिन लोगो का नुकसान हुआ था उन सबकी मदद टाटा ने की.
  • 26/11 आतंकवादी हमले के दौरान ताज होटल जितने भी दिन बंद रहा उतने दिन की सैलरी कर्मचारियो को दी गयी थी

रतन टाटा के बेस्ट इंस्पायरिंग थॉट्स (Ratan Tata Quotes in Hindi)

  • मैं सही निर्णय लेने में विश्वास नहीं करता। मैं निर्णय लेता हूँ और फिर उन्हें सही साबित कर देता हूँ।
  • अगर आप तेजी से चलना चाहते हैं तो अकेले चलिए। लेकिन अगर आप दूर तक चलना चाहते हैं तो साथ मिलकर चलिए।
  • आगे बढ़ने के लिए जीवन में उतर-चढ़ाव बहुत ज़रूरी हैं, क्योंकि ईसीजी में भी एक सीधी लाइन का मतलब होता है कि हम जिंदा नहीं हैं।
  • सत्ता और धन मेरे दो प्रमुख सिद्धांत नहीं हैं।
  • जिस दिन मैं उड़ान नहीं भर पाऊंगा, वो मेरे लिए एक दुखद दिन होगा।
  • ऐसी कई चीजें हैं, जो अगर मुझे दोबारा जीने के मौका मिले तो शायद मैं अलग ढंग से करूँगा। लेकिन मैं पीछे मुड़कर ये नहीं देखना चाहूँगा कि मैं क्या नहीं कर पाया।
  • कोई लोहे को नष्ट नहीं कर सकता, लेकिन उसकी अपनी जंग कर सकती है! उसी तरह कोई किसी इंसान को बर्बाद नहीं कर सकता, लेकिन उसकी अपनी मानसिकता कर सकती है।

Leave a Comment