Rinku Singh (Cricketer) Biography in Hindi | रिंकू सिंह का जीवन परिचय

0
Rinku Singh (Cricketer) Biography, Wiki, Age, IPL, Career, Education, Birth Place

Rinku Singh (Cricketer) Biography, Wiki, Age, IPL, Career, Education, Birth Place, Father and Mother

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के मंच से कई खिलाड़ियों की जिंदगी बदल चुकी है। भारतीय घरेलू क्रिकेट में अपना जलवा बिखेरने वाले प्लेयरों के लिए आईपीएल सबसे पहला बड़ा मंच होता है जहां वो अपने जौहर दिखा सकते हैं। अब आईपीएल 2022 में कोलकाता नाइट राइडर्स ने आईपीएल 2022 के 35वें मैच में गुजरात टाइटंस के खिलाफ रिंकू सिंह (Rinku Singh) को अपनी प्लेइंग एलेवन में शामिल किया था। इस लेख के जरिए हम आपको रिंकू सिंह की निजी जिंदगी के संघर्ष से रूबरू करवाने वाले हैं।

Rinku Singh Biography in Hindi | रिंकू सिंह का जीवन परिचय

पूरा नाम रिंकू खानचंद सिंह
उपनाम रिंकू
जन्म तिथि 12 अक्टूबर 1997
जन्म स्थान अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, भारत
आयु/उम्र 24 वर्ष
जन्मदिन 12 अक्टूबर
पेशा क्रिकेटर
राष्ट्रीयता भारतीय
धर्म हिंदू धर्म
नेट वर्थ ज्ञात नहीं

रिंकू सिंह का जन्म व प्रारंभिक जीवन (Rinku Singh Birth and Early Life)

रिंकू सिंह एक भारतीय क्रिकेटर हैं जो घरेलू क्रिकेट में उत्तर प्रदेश के लिए खेलते हैं. वह बाएं हाथ के बल्लेबाज और दाएं हाथ के ऑफ ब्रेक गेंदबाज हैं। रिंकू सिंह का जन्म 12 अक्टूबर 1997 को अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, भारत में हुआ था. उनके पिता का नाम खानचंद्र सिंह है जो एलपीजी गैस सिलेंडर डिलीवरी मैन थे और उनकी मां वीना देवी एक गृहिणी हैं. उनके दो भाई-बहन हैं; नेहा सिंह और जीतू सिंह।

24 वर्षीय रिंकू सिंह (Rinku Singh) साल 2018 से कोलकाता नाइट राइडर्स टीम का हिस्सा है। उत्तरप्रदेश से आने वाले इस खिलाड़ी ने आईपीएल में कदम रखने से पहले काफी संघर्षपूर्ण जीवन बिताया है। रिंकू सिंह 5 भाई बहनों में तीसरे नंबर पर है। उनके परिवार में आर्थिक तंगी होने के कारण एक समय पर रिंकू ने क्रिकेटर बनने का सपना छोड़ दिया था। क्योंकि रिंकू के पिता घर-घर जाकर सिलेंडर दिलीवर करने का काम किया करते थे। उनके एक भाई ऑटो रिक्शा चलाते थे और दूसरे भाई कोचिंग सेंटर में नौकरी कर घर का खर्च उठाने की कोशिश किया करते थे।

इन मुश्किल परिस्थिति में रिंकू (Rinku Singh) के क्रिकेटर बनने के ख्वाब दम तोड़ रहे थे, हताश होकर उन्होंने नौकरी करने का फैसला किया। इसके लिए रिंकू ने अपने भाई को नौकरी दिलवाने की बात कही। ज्यादा पढ़ा-लिखा नहीं होने के कारण रिंकू को झाड़ू मारने की नौकरी मिल रही थी। इसके बाद रिंकू ने ठान लिया कि अगर उन्हें अगर इस गुरबत से बाहर निकलना है तो क्रिकेट पर फोकस करना होगा

रिंकू सिंह का क्रिकेट करियर

रिंकू सिंह ने अंडर -16, अंडर -19 और अंडर -23 स्तरों पर उत्तर प्रदेश का और अंडर -19 स्तर पर सेंट्रल जोन का प्रतिनिधित्व किया है। 5 मार्च 2014 को, उन्होंने 16 साल की उम्र में उत्तर प्रदेश के लिए लिस्ट ए क्रिकेट में अपना डेब्यू किया था, जहां उन्होंने 87 गेंदों में 83 रन बनाए थे।

31 मार्च 2014 को, उन्होंने सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में विदर्भ के खिलाफ अपना T20 डेब्यू किया था, जहां उन्होंने 5 गेंदों पर नाबाद 24 रन बनाए थे. उन्होंने 5 नवंबर 2016 को 2016-17 रणजी ट्रॉफी में उत्तर प्रदेश के लिए प्रथम श्रेणी में पदार्पण किया था।

IPL में शामिल होते ही बदली Rinku Singh की जिंदगी

रिंकू सिंह (Rinku Singh) ने इसके बाद पूरी तरह से क्रिकेट पर फोकस करने का मन बनाया और दिल्ली में खेले गए एक टूर्नामेंट में उन्हें मैन ऑफ ड सीरीज में मोटर बाइक मिली तो उन्होंने उसे अपने पिता को सौंप दी। इस दौरान उन्होंने घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन शुरू किया और इनाम में मिलने वाली राशि से अपने परिवार का 5 लाख का कर्ज भी चुकता किया।

उनके इस टैलेंट को देखकर केकेआर फ्रैं चाइजी ने साल 2018 में अपने खेमे में शामिल किया। हालांकि रिंकू को इस दौरान ज्यादा मैच खेलने का मौका नहीं मिला। लेकिन उन्हें शानदार फील्डर के रूप में जाना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here