Tasnim Mir Biography In Hindi | तसनीम मीर का जीवन परिचय

0
Tasnim Mir Biography, Wiki, Age, Family, Education, Birthdate, Hometown, Tasnim Mir Badmint

Tasnim Mir Biography, Wiki, Age, Family, Education, Birthdate, Hometown, Tasnim Mir Badminton Player


Tasnim Mir एक बैडमिंटन खिलाड़ी हैं, तसनीम मीर गुजरात की रहनेवाली है।  16 साल की तसनीम जूनियर बैडमिंटन में दुनिया की नंबर 1 खिलाड़ी बन गई हैं. तसनीम पिछले साल के शानदार प्रदर्शन की वजह से नंबर 1 रैंकिंग तक पहुंचीं. वह ऐसा कारनामा करने वाली देश की पहली खिलाड़ी हैं.

तसनीम मीर का जीवन परिचय



पूरा नाम  तसनीम मीर
जन्म तिथि  ज्ञात नहीं
जन्म स्थान  गुजरात, भारत
उम्र  16 वर्ष
पिता का नाम  इरफ़ान मीर
माता का नाम  ज्ञात नहीं
धर्म  मुस्लिम
राष्ट्रीयता  भारतीय
शिक्षा  अभी कक्षा 8वी मे
प्रसिद्ध  जूनियर बैडमिंटन में दुनिया की नंबर 1 खिलाड़ी बन गई हैं

 

तस्नीम मीर की शिक्षा और परिवार 

आठवीं कक्षा में पढ़ने वाली 14 वर्षीय तस्नीम मीर रोज 8 घंटे से ज्यादा मेहनत कर बैडमिंटन टूर्नामेंट में नेशनल चैंपियन बनी हैं. वे अब इंटरनेशनल टूर्नामेंट में खेलने जाएंगी. हाल ही में महाराष्ट्र के नागपुर में बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया द्वारा नागपुर में 23 और 29 जुलाई के दरम्यान अंडर -15 और अंडर -17 बैडमिंटन स्पर्धा आयोजित हुई थी. जिसमें अंडर-15 में मेहसाणा की तस्नीम ने फ़ाइनल जीतकर नेशनल रैंकिंग हासिल कर ली और राष्ट्रीय स्तर पर प्रथम आकर मेहसाणा का गौरव बढ़ाया है.


तस्नीम की सफलता के पीछे उनके परिवार और खासकर उनके पिता का हाथ है. तस्नीम के पिता पुलिसकर्मी हैं. फिर भी अपनी बेटी के लिए समय निकालकर एक कोच की भूमिका अदा की और रोज तस्नीम को 8-8 घंटे प्रेक्टिस करवाई और इसका परिणाम आज देखने मिल रहा है.

पिता इरफ़ान मीर का सपना है कि तस्नीम आगामी 2024 साल के ओलंपिक में भारत को गोल्ड मेडल दिलवाए. दूसरी तरफ तस्नीम का 9 वर्षीय छोटा भाई मोहम्मद भी पिछले तीन साल से तीन घंटे बैडमिंटन की प्रेक्टिस कर रहा है. इससे लगता है कि एक और चैंपियन मेहसाणा और देश को जल्द ही मिल जाए तो कोई बड़ी बात नहीं.


तसनीम ने इस खास उपलब्धि पर क्या कहा

तसनीम ने न्यूज एजेंसी पीटीआई से कहा कि मैं यह नहीं कह सकती कि मुझे इसकी उम्मीद थी. मुझे लगा कि मैं नंबर 1 नहीं बन पाऊंगी क्योंकि टूर्नामेंट COVID-19 से प्रभावित हो रहे थे लेकिन मैंने बुल्गारिया, फ्रांस और बेल्जियम में तीन इवेंट जीते. इसलिए मैं वास्तव में उत्साहित और खुश हूं कि आखिरकार मैं दुनिया की नंबर एक बन गई. यह मेरे लिए बहुत अच्छा क्षण है.


उन्होंने कहा कि अब मैं पूरी तरह से सीनियर सर्किट पर ध्यान केंद्रित करूंगी और अगले महीने ईरान और युगांडा में खेलने को लेकर उत्साहित हूं. मेरा लक्ष्य अब अपनी सीनियर रैंकिंग में सुधार करना है. अगर मैं कुछ अच्छे प्रदर्शन करके साल के अंत तक शीर्ष 200 में पहुंच जाऊं तो यह बहुत अच्छा होगा. तसनीम ने जो हासिल किया है वो सिंधु और साइना नेहवाल भी नहीं कर पाई थीं. सिंधु अंडर-19 के दिनों में दुनिया की दूसरे नंबर की खिलाड़ी थीं. तेलंगाना की सामिया इमाद फारूकी इसके करीब आईं, लेकिन दूसरे स्थान पर ही पहुंच सकीं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here